Mat tolo muje in nazron ke tarazu mai,

Agar mutasir kar gya to dekh nhi paoge,

Aur na kar paya to mazak bnaoge,

Ae mulasim “kyun rakhta hai har kisi ko in nazron ki kasauti pe?”

Kya dekhna chahta hai kaun is intehan se ba-izzat laut kar ayega,

Aur agar ba-izzat laut bhi gya to fir kya?

Ek baar firse vo nazron ke tarazu mai hi tola jayega!!!

Hindi Version 🙂

मत तोलो मुझे इन नज़रो के तराजू में,

अगर मुतासिर कर गया तो देख नहीं पाओगे,

और ना कर पाया तो मज़ाक बनाओगे,

ऐ मुलाज़िम “क्यों रखता है हर किसी को इन नज़रों की कसौटी पे?”

क्या देखना चाहता है कौन  इस इन्तेहान से ब-इज्ज़त लौट कर आएगा।।

और अगर  ब-इज़्ज़त लौट भी गया तो फिर क्या?

एक बार फिरसे वो नज़रो के तराज़ू में ही तौला जाएगा.

 

Written By: Deepak Rawat.

Advertisements