Kaisi hai ye padhai? Kaisa hai ye gyaan?

Kyu Kehte hai hum “Mera Bharat Mahaan”?

Kis kaam ki hai ye padhai?

Jab padhai me hai bus ladai

Har jagah bus daud hai

Sabko kamana karod hai

Paisa hi ban gaya hai humara bhagwaan.

Kaisi hai ye padhai? Kaisa hai ye gyaan?

Engineer aur Doctor ka hi hai har jagah charcha,

Uske liye bhi chaiye lakhon ka kharcha;

Na mil rahi hai koi seekh na mil rahi hai koi shiksha,

Subject se zyada de rahe hai pariksha;

Ratta maar maar ke de rahe hai sab imtehaan

Kaisi hai ye padhai? Kaisa hai ye gyaan?

Bache ko engineer aur doctor banane ke liye Ma’a baap laga rahe hai arzi,

Kabhi bachon se bhi pooch ke dekho kya hai unki marzi;

Degreeyan lakhon me bik rahi hai,

Fhir bhi kude me fik rahi hai;

College hai ya hai baniye ki dukaan

Kaisi hai ye padhai? Kaisa hai ye gyaan?

Apna education system bhi hai kamaal,

Ban kar reh gaya hai ye bhed chaal;

Har bacha ek hi pahaad chad raha hai,

Bagal me khula maidaan sad raha hai,

Fhir hum kehte hai competition badh raha hai;

Kisi aur ka nahi apne hi bhavishya ka ho raha hai nuksaan,

Kaisi hai ye padhai? Kaisa hai ye gyaan?

Kyu Kehte hai hum “Mera Bharat Mahaan”?

Hindi Translation

कैसी है ये पढ़ाई? कैसा है ये ग्यान?
क्यू कहते है हम “मेरा भारत महान”?

किस काम की है ये पढ़ाई?
जब पढ़ाई मे है बस लड़ाई

हर जगह बस दौड़ है
सबको कामना करोड़ है

पैसा ही बन गया है हुमारा भगवान,
कैसी है ये पढ़ाई? कैसा है ये ग्यान?

इंजिनियर और डॉक्टर का ही है हर जगह चर्चा,
उसके लिए भी छाईए लाखों का खर्चा;

ना मिल रही है कोई सीख ना मिल रही है कोई शिक्षा,
सब्जेक्ट से ज़्यादा दे रहे है परीक्षा;

रट्टा मार मार के दे रहे है सब इम्तेहान
कैसी है ये पढ़ाई? कैसा है ये ग्यान?

बचे को इंजिनियर और डॉक्टर बनाने के लिए मा बाप लगा रहे है अर्ज़ी,
कभी बचों से भी पूच के देखो क्या है उनकी मर्ज़ी;

डीगरीया लाखों मे बिक रही है,
फहीर भी कूड़े मे फीक रही है;

कॉलेज है या है बानिए की दुकान
कैसी है ये पढ़ाई? कैसा है ये ग्यान?

अपना एजुकेशन सिस्टम भी है कमाल,
बन कर रह गया है ये भेड़ चाल;

हर बचा एक ही पहाड़ चॅड रहा है,
बगल मे खुला मैदान सॅड रहा है,
फहीर हम कहते है कॉंपिटेशन बढ़ रहा है;

किसी और का नही अपने ही भविष्य का हो रहा है नुकसान,
कैसी है ये पढ़ाई? कैसा है ये ग्यान?
क्यू कहते है हम “मेरा भारत महान”?

Advertisements