Ek talak jo dekha tumhe,
Ek khoobsurat sa din tha yaad hai mujhe;

Bas ek pal mein ho gayi mohabbat us haseen dilruba se,

Usi din jana maine hota hai kya pehli nazar vala pyaar;

Usne jo dastak li jeevan mein,

Dukh-Dard sab bhul gaya jaise;

Muskurane ki vajah milli us se,

Jeene ki disha milli us se;

Bin-bole hi sab keh diya,

Is rishtey ko har rishtey se upar kar diya;

Sukoon mila us dil-e-jigar ke sath reh kar,

Jiske liye nikalta hai dil se pyaar beh-beh kar;

Bas bhagwan se ek guzarish hai,

Nazar na lage is rishtey ko;

Kyunki unke bina shayad ab na jee payenge,

Nahi lagta ab aur kisi ka sath nibhayenge;

Pyaar itna hai us dilruba se – Ki bayan nahi kar sakte,

Lafz bahut kam hai,

Aur alfaaz sare num hai ussey bayan karne ke liye;

-Deepak Rawat

Hindi –

एक तलक जो देखा तुम्हे,

एक खूबसूरत सा दिन था याद है मुझे;

बस एक पल में हो गयी मोहब्बत उस हसीन दिलरुबा से,

उसी दिन जाना मैने होता है क्या पहली नज़र वाला प्यार;

उसने जो दस्तक ली जीवन में,

दुख-दर्द सब भूल गया जैसे;

मुस्कुराने की वजह मिली उस से,

जीने की दिशा मिली उस से;

बिन-बोले ही सब कह दिया,

इस रिश्ते को हर रिश्ते से उपर कर दिया;

सुकून मिला उस दिल-ए-जिगर के साथ रह कर,

जिसके लिए निकलता है दिल से प्यार बह-बह कर;

बस भगवान से एक गुज़ारिश है,

नज़र ना लगे इस रिश्ते को;

क्यूंकी उनके बिना शायद अब ना जी पाएँगे,

नही लगता अब और किसी का साथ निभाएँगे;

प्यार इतना है उस दिलरुबा से – की बयान नही कर सकते,

लफ्ज़ बहुत कम है,

और अल्फ़ाज़ सारे नम है उससे बयान करने के लिए;

-दीपक रावत

Advertisements